Thursday, August 30, 2012

शादी होने के कारण

प्रणाम!!  चलिए अब तो मैंने भी ये मान ही लिया है की मेरी शादी हो ही जाएगी। आखिर लड्डू खाने का निश्चय मैंने कर ही लिया। सही किया की गलत किया, ये तो और बात है, मैं इसके बारे में आज तो नहीं लिख सकता। परन्तु शादी के होने के पहले क्या क्या होता है, इस्पे व्याख्यान अवश्य प्रस्तुत कर रहा हूँ। अनुभव कुछ विशेष तो नहीं परन्तु मनोरम अवश्य है; सबसे पहले यदि आप मुस्कुराते भी हो तो आपको यही कहा जाता है "क्या बात है आजकल तो मुस्कराहट कुछ ज्यादा बढ़ गयी है?" मैं मन में बस यही सोचता हूँ की "मुस्कराहट तो पहले से थी, अब मोटापे के कारण  ज्यादा चौड़ी दिखती है।" कभी कभी तो मुस्कुराने में या हंसने में डर लगता है, की कहीं मेरी होने वाली पत्नी को दूरभाष न कर बैठे।

सबसे परेशान करने वाली बात है की, यदि आपके साथ कुछ अच्छा हो जाये तो "ये तो तुम्हारी पत्नी के पुण्य कर्मों का फल है"; और यदि कुछ गलत हो जाये तो "अभी तक जो किया वो तो तुमको ही भुगतना पड़ेगा"। जिन्हें पता नहीं है उन्हें भी बता दूँ, की शादी के पहले आपके साथ हर बात पर भेद भाव किया जायेगा। ज्यादा वेतन मिला तो पत्नी ने कराया, और ज्यादा नुक्सान हो गया तो उसका ज़िम्मेदार मेरे गलत निर्णय। और सबसे अशांत करने वाली बात है की आप किसी और लड़की या महिला को देखकर खुश नहीं हो सकते। सबसे पहले आपके चरित्र के ऊपर प्रश्न रख दिया जायेगा। "क्यूँ तुम अपनी हरकतों से बाज़ नहीं आओगे?" अरे भाई जब हरकत करूँगा तब तो बाज़ आऊंगा। और गलती से आपने कहीं किसी सुंदर कन्या को देखकर मुस्कुरा दिया, तो भाईसाब आपके तो लेने के देने पढ़ जायेंगे। आपकी पत्नी कुछ नहीं बोले परन्तु उसके आस पास वाले, मेरे मित्र, और वह व्यक्ति जिससे मेरा कुछ लेना देना नहीं है सबसे ज्यादा आहत हो जाएंगे। आधे पौन घंटे का खामखा का व्याख्यान सुनना पढ़ जायेगा, की मुझे क्या करना चाहिए और क्या नहीं।

और अब से आप जहाँ भी जायेंगे आपको मुफ्त की सलाह मिलनी प्रारंभ हो जाएगी "शादी के बाद ऐसा करना, शादी के बाद ऐसा मत करना; लोगों से ऐसे बात करना, ऐसे बात मत करना; अपनी पत्नी को ऐसे समझाना, और ऐसे मत समझाना; अब तुमको ऐसा करना पड़ेगा, और अब तुम ऐसा नहीं कर सकते। सबसे अनोखी सलाह जो सब देते है वो भी पूर्णतः मुफ्त कि  "अब तुम्हे ज़िम्मेदार बनना पड़ेगा, अब तुम वो नहीं कर सकते जो अब तक करते आये हो, अपनी ज़िम्मेदारी समझो"। भईसाहब बात समझो, ज़िम्मेदारी तो मैं अपनी उठा लूँ यही एक बड़ी उपलब्धि हो जाएगी, दुसरे व्यक्ति की ज़िम्मेदारी उठाना मतलब olympics में स्वर्ण पदक प्राप्त करने के बराबर होगा। (यह कहने पे आगे क्या हुआ, अवश्य बताऊंगा!!)........

बस आज के लिए इतना पर्याप्त है, आगे जब और मुसीबत मोल लेने का मन करेगा और बताऊंगा, शादी के कारण। ऐसा मत सोचियेगा की कहानी यहीं समाप्त हुई, यह तो सिर्फ दिलचस्प शुरुआत है, पूरा चलचित्र तो अभी बचा हुआ है। नमस्कार!! 

Saturday, March 17, 2012

मन मेरे !!

मन मेरे मत जा उस शहर जहाँ,
आँखों में कहीं प्यार नहीं,
मत जा उस राह में जहाँ,
आम के पेड़ पर पीली बौर नहीं।

मन मेरे मत जा उस शहर जहाँ,
मुस्कुराने की कीमत अदा करनी पड़े,
उस शहर जहाँ,
दिल का सौदा जेब के भार से करना पड़े,
उस शहर जहाँ,
एक आंसू की बूँद का बदला लेना पड़े।

मन मेरे मत जा उस शहर जहाँ,
ठंडी हवा मशीन से लेनी पड़े,
उस शहर जहाँ,
सूरज की तपन तन जलाने लगे,
उस शहर जहाँ,
पानी बोतल में मिलने लगे,
उस शहर जहाँ,
साँसों की इजाजत मिलने लगे।

ऐ मेरे मन रुक जा यहीं,
खो जा कहीं,
बैठ जा इस नील गगन की छाओं में,
कह दे दिल को प्यार कर ले यहीं,
सो जा यहीं,
सुन ले अपने दिल की आहट यहीं,
मत जा उस शहर जहाँ,
दिल की कोई सुनता नहीं।।

"कूल्ज़"

Thursday, November 10, 2011

मेरी व्यथा!!

चूहों ने जगह बनाई है, मेरी कुर्सी के नीचे,
मच्छर भी भिनभिनाते हैं, मेरे कानों के पीछे,
आज चाय में मक्खी डाल के, पूरा कप पी के आया हूँ,
आज बड़े दिनों के बाद, मैं खाने पर आया हूँ |

उसके चेहरे से नज़र हटती ही नहीं, जिसके टिफिन का खाना मैं खा के आया हूँ,
यही सज़ा मुझे मिली है की दुसरे का टिफिन चट्ट किया,
आज अपने साथ, हाजमोला भी लेकर आया हूँ ||

"कूल्ज़"

Thursday, August 4, 2011

गाड़ी बहुत तेज चलती हो |

यह कविता कुछ यादों का संग्रह है जो दिल्ली में गाड़ी चलते समय मैंने अनुभव किया......
यह कविता भी मैंने गाड़ी चलाते हुए लिखी. कैसे लिखी यह मत पूछिए..... बस लिख दी...... !!

गाड़ी बहुत तेज चलती हो,
गाड़ी बहुत तेज चलती हो,
चलाने वालों की भी जान ले जाती हो|

लगाती हो gear 2nd का मगर,
लगाती हो gear 2nd का मगर,
स्पीड ५वे पे ले आती हो|
गाड़ी बहुत तेज चलती हो.....

ब्रेक लगाने के मौके होते है बहुत ज्यादा,
ब्रेक लगाने के मौके होते है बहुत ज्यादा,
लेकिन, बिना ब्रेक के ही सिग्नल पार कर जाती हो|
गाड़ी बहुत तेज चलती हो.....

रोका जो तुमको पुलिस वाले ने,
रोका जो तुमको पुलिस वाले ने,
पुलिस वाले की जान खा जाती हो|
गाड़ी बहुत तेज चलती हो.....

हमारी जो आँखें चार हुई,
हमारी जो आँखें चार हुई,
इतराकर accelerator दबाती हो|
गाड़ी बहुत तेज चलती हो.....

"KOOLZ"

Sunday, July 24, 2011

Emptiness

Listening to the song, emptiness....... For a while..... Thinking of so many things happened in previous months, Today I have got two different stories to tell. The experience of United States which transformed me to a different person and my surgical procedure which is transforming me into another one. Life changes quicker than the thought...... I am struggling to my own thoughts and ideals. India is a tough country to live, pressures of society are extreme, and everyone here is bounded. Someway or the other, people here needs someone to accompnay them to Malls for shopping, for eateries to have fun and good time, go for an adventure ride. People want to do things which everyone does, they are reluctant to learn something new. I want to do the same thing that my Boss did, I'll go the same path that is successful. I dont want to look around and appreciate what we have around that path. Why not to be creative? Why not to test things which no one did till now? Why do we need movie reviews to watch a movie? why to buy a laptop which has been bought by someone else? Why to believe on someone else's believe? Why not to go to a place which no one visited? Why not to love someone you never met? Why not to give your life a chance to live?

There are several more questions. I ask them to myself as well, why am I doing same stuff, why not learn something new? I had lot of time to spend thinking about it, and I found, for last two months I have not learned anything new. Nothing new!! Its offcourse good to practice what you already know, but why not learn something new to practice differently. why not to do things differently? I've been pressurized to get married, but no one really answered me why? What is there that everybody around me want me to get married? I want to live my life, I want to enjoy my Life, I want to learn new things, things which no one knows, things which are impossible. I want to do impossible things, achieving them is a different thing, doesnt matter actually whether I achieve them at all or not, I want to give them a shot.

So many thoughts, random thoughts, sitting alone in my study and thinking what I require to be happy. Money, Girlfriend, wife, food, trip, company, actually I dont know. I am confused and dont have an answer to it. I am not happy these days, which is directly affecting my work. May be I have so many random things in my mind. Writing blog will set me free of my thoughts. I have not really thought of this blog, I have not really combined it or thinking of making it coherent. No proof reads, just flowing emotions and thoughts through my hands to the keyboard to the screen.

I desperately need a reason to smile, not finding one, may be looking at wrong places. Actually, I dont need a reason to smile, I just need to smile, and people will smile along with you. Because people are never bad, its their perception created by circumstances made them good or bad for particular person or society. So, if you think you've seen it all. Look around again. Always smile, spread it. Be happy, be kind and practice compassion. Always.

Keep Smiling all of you and take very good care of yourself. :)

Sunday, October 31, 2010

A Lonely Road

It always was a lonely road for me. I walked alone looking others passing by, they all new where they wanted to go. They walked swiftly and quickly, I watched them intently, everyone had a story to tell, everyone had an inspiration to share. Some talked to me, liked me and some just saw me thought something about me and walk away. Those who talked to me liked me tried to persuade me to follow a path which they followed, they told me to go a way which leads to their destinations. Some got lucky and I moved with them, or in fact I followed them, without asking a crucial question why? I followed them because I always walked a lonely road, in my conscious I always thought that I am walking along with them and out destinations are the same. But, I never understood why? I never felt comfortable, I never felt satisfied I never felt content. And then I understood that I am still alone, still following a person whose destination is different than mine. I stop! Then what? More people came by I tried to figure out what’s wrong, never really understand that.
One fine day I realized that oh! I have a completely different way to move, I walked on that alone...... I started making my own road, I worked hard, I dream hard and never looked back. But again in a cross-section I am confused. Which way to go, because this cross-section leads me to the same old road of people walking past me, this is the road I left, and again I am standing on that road with lot more people coming around and pursuing me to start following their dreams. Life doesn’t provide an emergency eject, I am stuck in my seat and again going crashing down towards ground. I have to jump again with all my strength, to counter the people who are around me! They have their dreams and goals, which they are following intently. I have to stand out again, I have to walk down a new street and make road to myself, but for what?
What is my destination? Where am I want to go? Ha.... I don’t care! I never have destination, I believe in Life.... I believe in making roads, making pathways for myself and for the people who want my skills. I enjoy being in this world, I enjoy being living, I enjoy to be myself. Selfless..... Feeling better now, this is what I do, when I have to decide what I am looking for. Put out all my ideas through words, I am not a storywriter, I am not a thinker, I am a traveller...... Who loves to walk by a lonely path, believing in the beauty of life...... Life is a once in a lifetime. (Don’t drench it for your destination, just follow your heart and enjoy the splendid beauty of it.....) KeepSmiling....... :)

Saturday, May 8, 2010

ख़ुशी

खुश रहना कितना मुश्किल है हर कदम पे कोई न कोई दुःख पड़ा मिलता है, और हम उस दुःख को ख़ुशी ख़ुशी उठा लेते है और दुखी हो जाते है | कितना अजीब है, की खुश होने के लिए दुखी होना जरुरी है, पर दुसरो को खुश देखकर दुखी होना मेरी समझ के परे है अरे भाई कोई सुखी है या नहीं ये तुमने कई मील दूर से बैठे बैठे कैसे तय कर लिया | कई बार मुस्कराहट दुःख को अपने आप में इतना समेट लेती है की जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती | मुस्कराहट से कई दिलों के दर्द मिट जाते है, मुस्कराहट से शिकवे गिले मिट जाते है, मुस्कराहट से नफरत मिट जाती है, और न जाने क्या क्या कमाल करती है ये मुस्कराहट | बड़ी खतरनाक चीज़ है ये मुस्कराहट, मेरी मानिए तो बच के रहिये इससे, कहीं आप भी मुस्कुरा न पड़े | अरे बताना जरुरी है, आपकी मुस्कराहट से दूसरा खुश हो सकता है और ये तो आपसे या हम सब से बर्दाश्त नहीं होता अरे दूसरा खुश हो गया तो आपके तो बदन में बिजली कौंध जायेगी |

पर मैंने तो तय किया है, की मैं तो मुस्कुराऊंगा, दुखी हूँ तो मुस्कुराऊंगा, सुखी हूँ तो मुस्कुराऊंगा, जिनको मैंने कभी किसी भी वजह से दुखी किया हो, जाने अनजाने उनका तो मैं क्षमा प्रार्थी हूँ, लेकिन मैं उनसे भी क्षमा चाहता हूँ जिनको देख के मैं दुखी हुआ करता था | पिछले कई दिनों से मैं उन लोगों को याद कर रहा हूँ जिनको देख के मैं बहुत दुखी होता था, अपनी किस्मत को रोता था | मुझे नहीं मालूम कि उनको क्या दुःख है, क्यूंकि वोः तो सुखी तभी होंगे जब उन्हें दुःख का अनुभव होगा बिना दुःख के सुख तो निरर्थक है |

दूसरों के सुख को देखकर दुखी होना गलत है, असल में हम दुखी अपने कर्मो से होते है, नाम दूसरों का लगाते  है | किस्मत उनका साथ देती है जो कर्म करता है, मेहनत करता है, बिना कर्म किये न तो सुख मिलता है न दुःख | दुःख इसलिए नहीं होता कि उसपे रोया जाए, दुःख या मुश्किलें इसलिए होती है कि उनसे सीखा जाए जो अपने दुखों से और मुश्किलों से सीख गया वोः सुखी हो गया | मेरे इस लेख को समझना मुश्किल नहीं है, परन्तु आसान भी नहीं है, मैंने जो लिखा उसपे कई विचार प्रस्तुत किये जा सकते है, कई और लेख लिखे जा सकते है और सबसे बड़ी बात है कि या तो मुझे उल्लू कहा जा सकता है या विद्वान | परन्तु मैं दोनों नहीं हूँ, मैं प्रेम में हूँ, जी मैं किसी से प्यार करता हूँ, और इतना प्यार करता हूँ कि उसे कभी नहीं बताऊंगा कि मैं उससे प्यार करता हूँ | इसके ऊपर कभी और लिखूंगा परन्तु इसी प्यार कि वजह से इतना सुख मिला है और इतना दुःख कि समझ नहीं आ रहा |
आगे क्या लिखूं, बस इतना ही कहूँगा, कि खुश रहिये और खुश रखिये, अपने आप को अपने जीवन को और अपने अंतर्मन को | मुस्कुराते रहिये !!